स0 साथ,स0 विकास का सही मायने। 

Spread the love

सबका साथ सबका विकास का सही मायने लोगों के सामने।   
पुलिस बल ने अनशनकारियों पर किया बल का प्रयोग। आयुष छात्र आंदोलन का आमरण अनशन रहा जारी,इन अनशन कर रहे छात्रों को कल मौके पर पहुंचे पुलिसकर्मियों ने बल प्रयोग कर अनशन कर रहे छात्रों को जबरन धरना स्थल से हटाने के लिए डंडे व लाठियों का भी प्रयोग किया जिसमे कुछ छात्र छात्राएं भी घायल हो गए। उन घायलों में से कुछ छात्रों के पुलिस ने दून हॉस्पिटल में भर्ती करवाया तो कुछ घायलों को उनके हाल पर ही छोड़ दिया। यह सरकार के पिछले ढाई वर्षों के कार्यकाल में पहली बार हुयी है कि जहां शांतिपूर्ण तरीके से अनशनकारियों को उनके अपने अधिकार पर बल का प्रयोग किया गया है। जबकि शांतिपूर्ण तरीके से देश का कोई भी नागरिक अपनी बात को धरना देकर अपनी बात सरकार तक पहुंचा सकता है। आपको बता दूँ कि इस जबरन अनशन कर रहे छात्रों को उठाना पीएम मोदी के उस स्लग सबका साथ सबका विकास को भी कटघरे में ला दिया है। छात्र अजय मौर्य को आमरण अनशन पर बैठे हुए दसवां दिन है लेकिन शासन प्रशासन द्वारा किसी प्रकार की कोई मेडिकल टीम नही भेजी गई है । उल्टा इनके साथ तानाशाही जैसा व्यवहार किया जा रहा है।जिसे लेकर छात्रों में काफी आक्रोश व्याप्त है वहीं अब छात्रो के समर्थन में अभिभावक भी खुलकर सामने आ गए हैं, अभिभावकों ने छात्रों के समर्थन में आज से क्रमिक अनशन शुरू कर दिया है।अभिभावकों की ओर से आज राम तीर्थ पाण्डेय(रुड़की) और श्रीमती सुलोचना रावत क्रमिक अनशन पर बैठे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *