पहले डेंगू ,अब चमकी बुखार की लहड़।

Spread the love

प्रदेश में डेंगू से अब तक 8 लोगों की मौत हो चुकी है। ऐसे में चमकी बुखार से मौत का मामला वाकई चिंता बढ़ाने वाला है। चमकी बुखार से मौत का मामला वाकई चिंता बढ़ाने वाला है। राज्य समीक्षा यहां आपको चमकी बुखार के लक्षण और बचाव के तरीके बताने जा रहा है। पहले बात करते हैं लक्षणों की। आमतौर पर चमकी बुखार की चपेट में बच्चे ज्यादा आते हैं। बच्चे को तेज बुखार रहता है। बदन में ऐंठन रहती है। कमजोरी की वजह से बच्चा बार-बार बेहोश हो जाता है। शरीर सुन्न हो जाता है। बार-बार झटके लगने से सेंट्रल नर्वस सिस्टम खराब हो जाता है। बच्चे में ये लक्षण दिखने पर उसे छायादार स्थान पर लेटा कर रखें। बुखार आने पर बच्चे को हल्के कपड़े पहनाएं। दाएं या बाएं लेटाकर अस्पताल लेकर जाएं। बच्चे को कंबल से ना ढकें, ना ही गर्म कपड़े पहनाएं। मरीज के बिस्तर पर ना बैठें, उसे बेवजह तंग ना करें। बुखार होने पर बच्चे को तुरंत अस्पताल लेकर जाएं,लापरवाही ना बरतें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *