घंटों एंबुलेंस नहीं मिली तो तोड़ दिया।

Spread the love

एक घंटे तक एंबुलेंस नहीं मिली तो तोड़ दिया।
मृतक की पत्नी ने गुहार लगाते हुए कहा हम सब लोगों को एक साथ जाने दो नहीं तो परिजन मोपेड पर जाते समय रास्ते में मर जायेगे। लॉकडाउन के चलते मोपेड पर पत्नी व दो बच्चों के साथ दिल्ली से सिद्धार्थनगर के लिए निकले युवक की अचानक तबीयत बिगड़ी और बाद में मौत हो गई। विनोद तिवारी (32 वर्ष) दिल्ली की नवीन विहार कॉलोनी में अपनी पत्नी व दो बच्चों के किराए के मकान में रहता था। जहां पर बिस्कुट व कुरकुरे आदि सामान की सेल्समैनी करके अपने परिवार का भरण पोषण कर रहा था। वह पिछले तीन साल से मुंह में कैंसर से पीड़ित है और उपचार चल रहा था। लॉकडाउन के बाद काम बंद होने से आय का साधन समाप्त हुआ तो विनोद तिवारी शुक्रवार की देर रात्रि पत्नी व दो बच्चों को मोपेड पर बिठाकर घर के लिए चल दिया। सुबह 10 बजे के लगभग वह सिकंदराराऊ (अलीगढ़) जीटी रोड पर नगर पालिका के समीप पहुंचा तभी विनोद की तबीयत बिगड़ गई। मोपेड रोकते ही वह जमीन पर गिर पड़ा। उसके साथ दूसरी मोपेड पर सवार भाई ने उपचार के लिए एंबुलेंस को फोन लगाया। आरोप है कि एंबुलेंस की मदद एक घंटे तक नहीं मिली और विनोद ने दम तोड़ दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *