हादसे की असली वजह क्या, डबल हेलमेट या हाई-वे पर गड्ढे ?

Spread the love

हरिद्वार: धर्मनगरी में पुलिस-प्रशासन ने जहां एक ओर सुरक्षा के लिहाज से डबल हेलमेट की अनिवार्यता तो लागू कर दी, लेकिन सवाल ये है कि सिर्फ डबल हेलमेट लागू करने से ही सड़क हादसों पर लगाम कसी जा सकती है? सड़कों पर बने गड्ढे हादसों को दावत दे रहे हैं।दरअसल, हरिद्वार की सड़कें विगत 7 सालों से अपने जीर्णोध्दार को तरस रही हैं,  सालों से हरिद्वार – दिल्ली हाइवे का काम रुका हुआ है। आधा बने हाइवे तो लोगों के सामने परेशानी पैदा तो करता ही है। वहीं हाइवे पर बने गड्ढे लोगों के लिए मुसीबत का सबब बनते जा रहे है। दूसरी तरफ रही सही कसर बारिश ने पूरी कर दी है।

गड्ढे दे रहे हादसों को दावत।

गड्ढों में पानी भरने से हादसों का खतरा बना हुआ है। ता दें बीते 12 अगस्त को सड़क पर गड्ढे और बारिश से पानी भर जाने से एक ट्रक हाइवे पर पलट गया था।  इससे सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि जब हाइवे पर गड्ढे में पानी भरने से ट्रक पलट गया तो दोपहिया वाहन चालकों को किस स्थिति से गुजरना पड़ता होगा? लोगों का कहना है कि डबल हेलमेट दोपहिया वाहन चालकों की सुरक्षा के लिए अनिवार्य है। लेकिन शासन-प्रशासन ने सड़कों को भी दुरुस्त करना चाहिए जो हादसों का सबब बने हुए हैं। जिससे लगातार बढ़ती सड़क दुर्घटनाओं को रोका जा सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *