गांव की प्रधान बनकर हिना भी खुश हैं।  

Spread the love

जेठानी शहनाज गांव की प्रधान हुआ करती थीं, लेकिन कार्यकाल समाप्त होने से पहले ही डीएम ने शहनाज को बर्खास्त कर दिया। शहनाज ने हाईकोर्ट का सहारा लेकर स्टे ले लिया, इसी बीच पंचायत चुनाव का ऐलान हो गया। गांव में महिला सीट आरक्षित हो गई। इस बार पूर्व प्रधान शहनाज के पति सरफराज ने पत्नी शहनाज के साथ-साथ छोटी बहू हिना का भी पर्चा भरवा दिया। इस तरह हिना चुनाव का हिस्सा बनीं और चुनाव जीत भी गईं। उनकी जेठानी शहनाज ने भी देवरानी की जीत पर खुशी जाहिर की। शहनाज ने कहा कि उनके किए कामों और ईमानदारी की वजह से ही गांववालों ने हिना को अपना समर्थन दिया,गांव की प्रधान बनकर हिना भी खुश हैं। हिना ग्रेजुएट हैं, उन्होंने कहा कि गांव के विकास के लिए उनके पास बेहतर योजना है, जिस पर वो जल्द ही काम करना शुरू कर देंगी। उन्होंने ग्रामीणों का आभार व्यक्त किया। जीत के साथ ही जश्न का दौर भी शुरू हो गया। इस पंचायत चुनाव की सबसे खास बात ये रही कि गांव की सरकार बनाने से लेकर छोटी सरकार का हिस्सा बनने तक में महिलाओं ने बढ़-चढकर भागीदारी निभाई। गांवों को प्रधान के रूप में कई युवा चेहरे मिले। इन युवा चेहरों में एक हैं जसपुर की हिना, जो कि मनोरथपुर की प्रधान चुनी गईं। एक महीने पहले तक मनोरथपुर में हिना को कोई जानता तक नहीं था। कुछ दिन पहले ही वो बहू बनकर गांव आईं और आज गांव की मुखिया चुन ली गईं। एक महीने पहले ही हिना की शादी मनोरथपुर के रहने वाले युवक से हुई थी|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *