आईटीबीपी के जवान, अर्जुन का गीत।

Spread the love

आईटीबीपी के जवान,अर्जुन का गीत।
कोरोना योद्धा डाक्टर, मेडिकल स्टॉफ, पुलिस कर्मी इस गीत को गुनगुनाते, अपनी फोटो इस गीत के साथ शेयर करते नजर आ रहे हैं। इस गीत का हर बोल, अंतरा, अलाप उन्हें गौरांवित करता है एवं उन्हें और जज्बे के साथ कोरोना से जंग लड़ने को प्रेरित करता है। माई मेरी, वतना मेरा, कुर्बां हुआ तेरी अस्मत पे, है कितना नसीबा मेरा। ऐ मेरी ज़मीं, अफ़सोस नही जो तेरे लिये सौ दर्द सहे। महफ़ूज़ रहे तेरी आन सदा, चाहे जान मेरी ये रहे ना रहे। ऐ मेरी ज़मीं, महबूब मेरी, मेरी नस-नस में तेरा इश्क़ बहे। फीका ना पड़े कभी रंग तेरा, जिस्मों से निकल के खून कहे। तेरी मिट्टी में मिल जावां, गुल बनके मैं खिल जावां देहरादून के भंडारीबाग के रहने वाले आईटीबीपी दिल्ली में तैनात हेड कांस्टेबल अर्जुन खेरियाल अभिनेता अक्षय कुमार की फिल्म केसरी के इस गीत तेरी मिट्टी में.. को नये रूप में पेश किया है। जो कोरोना योद्धाओं की पसंद बना है। ट्वीटर, इंस्टाग्राम, यू-ट्यूब, फेसबुक पर लाखों की संख्या में इसे देख और साझा कर चुके हैं। हिन्दुस्तान को अर्जुन ने बताया कि उन्होंने गीतकार मनोज मुन्तशिर के इस गीत का कवर सांग 2019 में भी गाया था। जिसे 60 मिलीयन लोगों ने देखा। जब मुन्तशिर साहब ने कोरोना योद्धाओं को गीत को समर्पित किया, तो उन्होंने भी एक अंतरा और अलाप जोड़कर नये रूप में पेश किया। 29 अप्रैल को आईटीबीपी के ट्विटर हेंडल पर गीत को ट्वीट किया गया। कहते है देश के हर नागिरक को कोरोना योद्धाओं का सम्मान करना चाहिये, जिससे उनका हौसला बढ़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *