कोरोना से तीन दिन,झंडा जी मेला।

Spread the love

झंडा जी मेला कोरोना के चलते तीन दिन में संपन्न है।
लेकिन इस बार झंडा आरोहण और नगर परिक्रमा के बाद कोरोना वायरस के प्रति सर्तकता बरतते हुए मेला संपन्न करवाने का फैसला लिया गया। उन्होंने बताया कि दो अप्रैल तक प्रस्तावित मेले में हर दिन बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं का झंडा साहिब पहुंचने का अनुमान था। जिससे हर रोज स्थिति को कंट्रोल करना मुश्किल काम था। दरबार साहिब के वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी भूपेंद्र रतूड़ी ने बताया कि पहली बार झंडा जी मेला तीन दिन में संपन्न हुआ। वर्ष 1676 में श्री गुरु राम राय ने दून में डेरा डाला था। इसके बाद लोक कल्याण के लिए दरबार साहिब परिसर में विशाल ध्वज स्थापित किया था। उन्होंने बताया कि धार्मिक आस्था से जुड़ी हुई आवश्यक गतिविधियों को पूरा कर मेला संपन्न किए जाने की घोषणा की गई है। जिला प्रशासन के साथ मिलकर दरबार साहिब परिसर के बाहर दुकाने बंद करने को कहा गया है। दरबार साहिब परिसर में एक महीने तक चलने वाला झंडा जी मेला कोरोना के चलते तीन दिन में ही संपन्न कर दिया गया है। दरबार साहिब के इतिहास में यह पहला मौका है जब मेले को तीन दिन में ही संपन्न करवाने का निर्णय लिया गया। वहीं झंडा जी आरोहण के दौरान ध्वजदंड भी पहली बार खंडित हुआ। रविवार को नगर परिक्रमा के बाद दरबार साहिब के श्रीमहंत देवेंद्र दास महाराज, मेला आयोजन समिति के पदाधिकारियों और जिला प्रशासन के बीच बैठक हुई। जिसमें कोरोना वायरस से बचाव और लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से मेला संपन्न करवाया गया। मेला व्यवस्थापक केसी जुयाल ने बताया कि दरबार साहिब में श्री गुरु राम राय साहिब के जन्मदिवस के उपलक्ष्य में हर साल झंडा आरोहण के साथ ही करीब एक महीने तक झंडा जी मेला लगता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *