बाज़ारों में भीड़ और काला बाज़ारी। 

Spread the love

बाज़ारों में लोगों का जमावड़ा,उपर से काला बाज़ारी। राजधानी देहरादून में लॉकडाउन के चौथे दिन भी बाज़ारों में लोगों की जरुरत से भी अधिक संख्या दिखाई दिए। यह भीड़ खासकर राशन व सब्ज़ी मंडियों में अधिक दिखे,और भीड़ का आलम यह था कि मनो किसी को अपनी जिंदगी की चिंता बिल्कुल भी नहीं हो। जबकि  पीएम व प्रदेश के त्रिवेंद्र सरकार अनेकों बार राजधानी के लोगों से अपील कर चुके हैं। कि वह जहां पर भी रहें वहां दुरी बनाकर ही रहे,और यह दुरी कम से कम 2 मीटर का होना चाहिए। वही सूबे के मुखिया रावत ने इस प्रकार बाज़ारों में जरुरत से अधिक भीड़ जुटने पर नाराजगी भी जाहिर की है। सीएम ने प्रदेश को अपने सम्बोधन में कहा है कि यदि छूट के दौरान इतनी बड़ी संख्या में लोग एकजूट होंगें,और गलती से भी उनमे एक भी संक्रमिक व्यक्ति पहुंच गया तो,वहां के लोगों को भगवान भी नहीं बचा पायेगा। दुसरी ओर आज लॉकडाउन के चौथे दिन दुकाने तय समय सीमा के आधे घंटे बाद तक भी खुले दिखाई दिए। बाज़ारों में लोगों का जमावड़ा,उपर से काला बाज़ारी।  ऐसे मुनाफाखोड़ों को देखकर यह प्रतीत होता है कि मानों इनकी इंसानियत भी समाप्त हो चुकी है। और शायद यह लोग ऐसे ही माहमारी होने के इंतज़ार में थे.जिससे कि इन मुनाफाखोड़ों  की काला बाज़ारी धरल्ले से चलें। जहां एक ओर सरकार इस कोरोना जैसे महामारी को रोकने के लिए सरकारी अपनी पूरी मशीनरी झोंक रखी है। लेकिन कुछ खुदगर्ज लोग सरकार की इस मुहीम को पलीता करते नज़र आ रहें है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *