टिहरी झील के चारों तरफ बनेगी 34 किलोमीटर लंबी डबल लेन रिंग रोड

Spread the love

उत्तराखंड की टिहरी झील पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है। कम वक्त में ही इस झील ने देश-दुनिया में खासी लोकप्रियता हासिल कर ली है। वॉटर स्पोर्ट्स के साथ-साथ ये जगह अपने प्राकृतिक सौंदर्य के लिए भी जानी जाती है। जल्द ही टिहरी झील के चारों ओर रिंग रोड का निर्माण होगा। उत्तराखंड सरकार ने इस दिशा में प्रयास शुरू कर दिए हैं। 42 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र मंस फैली टिहरी झील के किनारे 234.6 किलोमीटर लंबी डबल लेन रिंग रोड बनेगी। इस प्रोजेक्ट पर 335 करोड़ की लागत आएगी। मुख्य सचिव ने रिंग रोड के लिए भूमि अधिग्रहण, वन भूमि हस्तांतरण और दूसरे काम पूरे करने के निर्देश दिए हैं। गुरुवार को मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने अधिकारियों की बैठक ली। जिसमें टिहरी झील को पर्यटन के लिहाज से विकसित करने के प्रयासों पर चर्चा हुई। बैठक में सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर ने बताया पर्यटन विभाग को टिहरी झील के चारों तरफ रिंग रोड बनाने के निर्देश मिले हैं। ये प्रोजेक्ट मुख्यमंत्री की घोषणाओं में शामिल है। रिंग रोड ना होने की वजह से टिहरी झील में मूलभूत सुविधाओं का विकास नहीं हो पा रहा। रिंग रोड बनेगी तो टिहरी झील को पर्यटन के लिहाज से फायदा होगा। चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालु भी इसका इस्तेमाल कर सकेंगे। चलिए अब आपको प्रस्तावित प्रोजेक्ट के बारे में कुछ खास बातें बताते हैं। रिंग रोड में सुविधाएं विकसित करने के लिए एशियन विकास बैंक के विषय विशेषज्ञों की मदद ली जा रही है। प्रस्तावित रिंग रोड की कुल लंबाई 234.60 किलोमीटर है। इसका 20 किलोमीटर हिस्सा चारधाम सड़क मार्ग के अधीन निर्माणाधीन है। पहले चरण के काम पर 8.81 करोड़ और दूसरे चरण के काम पर 326.14 करोड़ का खर्चा आने की उम्मीद है। मुख्य सचिव ने भूमि अधिग्रहण के साथ ही वन भूमि हस्तांतरण का काम जल्द पूरा करने के निर्देश दिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *