भारी भरकम पत्थर गिरने से भाई और बहन की हालत बेहद गंभीर

Spread the love

उत्तराखंड में बारिश की वजह से लगातार हादसे हो रहे हैं। पहाड़ों से गिरा मलबा और पत्थर सड़क पर जमा हैं, बोल्डर गिरने की वजह से रास्ते बंद हो गए हैं। पहाड़ से मलबा-पत्थर गिरने की वजह से हादसे हो रहे हैं। कोटद्वार में भी ऐसा ही हुआ है, जहां कोटद्वार-दुगड्डा के बीच में चट्टान से गिरे बोल्डर की चपेट में आने से स्कूटी सवार भाई-बहन गंभीर रूप से घायल हो गए। दोनों को इलाज के लिए हायर सेंटर रेफर किया गया है। हादसा नजीबाबाद-बुआखाल नेशनल हाईवे पर हुआ। गुरुवार सुबह नौ बजे 20 साल का आयुष देवरानी अपनी 23 वर्षीय बहन निकिता के साथ स्कूटी पर सवार होकर दुगड्डा की तरफ जा रहा था। तभी सिद्बली और लालपुर के बीच चट्टान से बोल्डर लुढ़कने लगे। भाई-बहन कुछ समझ पाते, इससे पहले ही बोल्डर उनकी स्कूटी पर जा गिरा। दोनों को संभलने का मौका तक नहीं मिला। बोल्डर की चपेट मे आने से आयुष और निकिता गंभीर रूप से घायल हो गए। आस-पास के लोगों ने उन्हें किसी तरह अस्पताल पहुंचाया, जहां से उन्हें इलाज के लिए देहरादून रेफर कर दिया गया। दोनों की हालत गंभीर बनी हुई है। लगातार बोल्डर गिरने की वजह से नेशनल हाईवे पर एक घंटे तक जाम लगा रहा। सड़क के दोनों तरफ गाड़ियां जाम में फंसी रही। करीब दस बजे प्रशासन ने जेसीबी बुलाकर सड़क से बोल्डर हटाने का काम शुरू किया, पर चट्टान से फिर बोल्डर गिरने लगे। पत्थर गिरने की वजह से एक जेसीबी मशीन को भी नुकसान पहुंचा है। जेसीबी के शीशे टूट गए, जेसीबी ड्राइवर ने किसी तरह अपनी जान बचाई। बाद में दूसरी जेसीबी बुलाई गई, तब कहीं जाकर रास्ते से बोल्डर हटाए जा सके। उत्तराखंड में बारिश की वजह से इस तरह के हादसे लगातार हो रहे हैं। ऐसे में सतर्क रहें। पहाड़ों की यात्रा करते वक्त सावधानी बरतें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *