निगम का फंडा, 2 लाख का धंधा?

Spread the love

निगम का फंडा,2 लाख का धंधा?
सीएम के ड्रीम को पलीता लगाते हैं,ये टैक्सी स्वामी ?
क्या है टैक्सी संचालकों का सच ?क्या महज 2 लाख रुपये सालाना लेकर निगम ने दे रखी है, टैक्सी स्टैंड को अनुमति  ?  
सीएम की रिष्परना नदी को जिंदा करने की ठेंगा दिखाते हैं,रिष्पना पुल के पास चलने वाले ये टैक्सी स्टैंड । जबकि पूर्व में इन टैक्सी मालिकों को रिष्पना पुल के पास बने तिब्बत मार्केट में स्टैंड के लिए दिया जा चुका है । बाबजूद भी यहां सालों से हो रहे हैं टैक्सी संचालित । वहीं इन टैक्सी संचालकों का कहना है कि यह टैक्सी स्वामी 2 लाख रुपये प्रतिवर्ष नगर निगम को दे रहे हैं । तो क्या नगर निगम की मिलीभगत से चल रहा है, ये टैक्सी स्टैंड । वही प्रदेश सरकार के नदी को जीर्णोद्धार करने के लिये लाखों रुपये पानी की तरह खर्च होते हैं । लेकिन आज भी यह टैक्सी स्वामी नदी में अपने गाड़ियां पार्किंग कर सरकार की रिष्पना को जीर्णोद्धार करने की दावे को पलीता करते नज़र आते हैं,ये टैक्सी संचालक । तो क्या नगर निगम चला पायेगा इन अवैध रूप से चलने वाला टैक्सी स्टैंड पर डंडा । या फिर यूं ही जाम से जूझते रहेंगें  देहरादून के लोग  ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *