अवैध वेंडिंग ज़ोन पर कसेगा सिकंजा।

Spread the love

अब नगर निगम की अवैध कब्ज़े वाली वेंडिंग ज़ोन पर कसेगा सिकंजा।

जी हां यह बात सौ फीसदी सच है कि जिस प्रकार नगर आयुक्त विनय शंकर पांडेय व मेयर गामा ने मिलकर बना डाले वेंडिंग जोन। वो सरकारी कायदे कानून को तक पर रखकर,सत्ता व पार्टी के मुखिया के दम पर सिंहासन तक आसीन मेयर साहब व आयुक्त महोदय ने देहरादून के 6 न० पुलिया पर वेंडिंग जोन बनाकर बानो कोई तीर चला दिया हो। लेकिन यह महारथी सत्ता के नशे में इस कदर चुड़ हो गए कि उन्होंने किसी अन्य विभाग की भूमि पर कब्ज़ा ही नहीं किया बल्कि उसे पुरे 100 खोखा संचालकों को हर महीने रूपये 2 हज़ार के हिसाब से किराए पर चढ़ा दिए। इतना ही नहीं बल्कि खोखा मालिकों को पांच वर्ष तक के लिए आवंटन भी कर दिए। लेकिन हैरानी की बात तो यह है कि आयुक्त पांडेय व मेयर साहब ने जिस जगह को दुकानदारों को किराए के लिए दे दिए दरसल वह संपत्ती नगर निगम की है ही नहीं तो भला निगम उस जमींन पर किसी को आवंटन कैसे कर सकता है। लेकिन इस बात की जानकारी श्रमिक मंत्र टीम को लगी तो टीम ने जब आयुक्त महोदय व मेयर साहब से पूछने के लिए उनके दरवाजे खटखटाया तो यह दोनों के दोनों श्रमिक मंत्र टीम बौखला गए। बौखलाना भी सही था क्योंकि पत्रकार ने उनकी असलियत को पोल जो खोल दिए। वहीँ अब 6 न० पुलिया वेंडिंग जोन की जमीन पर वर्षों से काबिज़ सिंचाई विभाग निगम और आयुक्त महोदय के विरुद्ध अतिक्रमण किए जाने व वेंडिंग जोन बनाने से पूर्व सुचना न देने व बगैर एन० ओ० सी० के वेंडिंग जोन बनाकर उसे लाखों रूपये हर माह कमाई का जरिया बनाने पर शाशन स्तर पर कार्यवाही शुरू की गयी है। इस बात की पुष्टि सिंचाई विभाग के प्रमुख प्रबन्धक मुकेश मोहन ने की है। अब देखना होगा की प्रमुख अभियंता की कार्यवाही करने की बात कबतक सच साबित होती है। मेयर साहब की कार्यशैली आज देहरादून के लोगों के सामने है कि वह जब मेयर के सीट पर बैठकर किसी अन्य विभाग की संपत्ति पर अतिक्रमण कर सकते है तो आम लोगों ने वर्षों से अतिक्रमण किए थे तो उनका अतिक्रमण क्यों हटाया। या फिर अतिक्रमण करना सिर्फ और ताक़तवर लोगों के लिए ही है। यह नगर आयुक्त विनय शंकर पांडेय साहब बेहत्तर बता पायेंगें।   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *