प्लास्टिक युक्त मानव श्रृंखला। 

Spread the love

मेयर साहब ने की,प्लास्टिक युक्त मानव श्रृंखला का आगाज। 

इस दिखावे के अभियान में किस बात की ख़ुशी है हमारे दोस्तों को जिस अभियान में यह बताया गया था कि 50 किलोमीटर का प्लास्टिक मुक्त मानव शृंखला का आयोजन किया जाएगा। लेकिन बहुत ही दुर्भाग्य की बात यह है कि राजधानी देहरादून के जागरूक नागरिक फोटो व सेल्फी के होड़ में यह भी भूल गए कि आयोजक ने प्लास्टिक मुक्त होने की बात की थी वो दरसल प्लास्टिक मुक्त न होकर पूरा का पुरा 50 किलोमीटर का दावे करने वाला मानव श्रृंखला प्लास्टिक युक्त था। ये हम नहीं कह रहे है बल्कि य बयां कर रहा है बैरिकेटिंग पर लगाए गए स्ट्रिप्स आप खुद ही देख लें कि यह भी इसे छापने में भी प्लास्टिक का इस्तेमाल किया गया है तो फिर,प्लास्टिक मुक्त की नौटंकी क्यों। वही दूसरी तरफ एक ओर बात यह भी है कि आयोजक ने यह भी नहीं सोचना ठीक नहीं समझा कि इस दिखावे की अभियान वाले लोगों से कई गुना अधिक पड़ेशानी ट्रैफिक को बाधित करने से हुयी है । आयोजक उन से तो पूछा होता की उन्हें अपने डॉक्टर्स,ऑफिस,दुकान,व्यवसाय एवं अपने पढ़ने वाले बच्चों के स्कूल तक जाने व वापस आने में कितनी मुश्किलें हुई हैं। जिसे आयोजक तो अपनी फोटो देखकर कुछ देर तक खुश हो जायेंगें लेकिन जिस परिवार की इलाज कराने जा रहे इस अभियान को वो शायद ही कभी भुला पायेंगें। आप उनकी पड़ेशानी को नज़दीक से देख लिया होता तो आप लोगों को समझ आता कि आम लोगों को मानव श्रृंखला से मुश्किलें क्या हुयी हैं। तो क्या यही था इस जागरूकता अभियान का मिशन सोचना आपको है। बाकी दिखने के लिए ये तस्वीर ही काफी है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *