मंत्रीयों ने ली संज्ञान।

Spread the love

पीएम के दिशा निर्देशों का पालन न करने पर मंत्रीयों ने ली संज्ञान।
पीएम के दिशा निर्देशों का धज्जियां उड़ाते, दिखाई दिए हरिद्धार जिला अधिकारी । जहां वैष्विक महामारी की चिंता से पीएम मोदी को बैचैन कर रखी है। नींद उडी हुयी हैं और पीएम अपने 130 करोड़ जनता की स्वास्थ्य से चिंतित व पड़ेशान हैं। पीएम ने देश के लोगों से हाथ जोड़कर अपील किया कि आगामी 14 अप्रैल तक अपने आप को घरों में बंद कर लें। इसी में हमसब की भलाई है,और इस महामारी के प्रकोप से खुद और दूसरों को भी सुरक्षित कर सकते हैं। लेकिन हैरानी की बात यह है कि पीएम मोदी की उन अपील को धज्जियां उड़ाते दिख रहे हैं,हरिद्धार के जिला अधिकारी सी रवि शंकर । जिलाधिकारी ने जनपद हरिद्धार में  इंटर कॉलेज सहित 29 अलग अलग विभागों के कार्मिकों को कोविड -19 से रोकथाम के लिए पिछले 28 मार्च 2020  को  प्रशिक्षण करने आदेश जारी कर तुगलकी फरमान जारी कर दिए। जिलाधिकारी के तुगलकी फरमान मानो  कार्मिको के लिए गले का फांस बन गया। जिसे कार्मिक न इंकार ही कर सकते और न ही पालन। अब सबाल उठता है कि राज्य सरकार आदेश जारी कर सभी विभागों को अग्रिम 14 अप्रैल तक कार्यमुक्त कर अपने अपने घरों में ही रहने के आदेश देती है । वहीँ दूसरी ओर राज्य सरकार के आदेशों को दरकिनार कर जनपद  हरिद्धार के जिला अधिकारी अपने जनपदों में  सभी कार्मिकों को प्रशिक्षण के लिए निर्देशित करते हैं । और जिलाधिकारी द्वारा यह हवाला दिया जाता है कि प्रशिक्षण सोशल डिस्टेंसिंग  को ध्यान में रखकर किया जायेगा । इसे जब श्रमिक मंत्र न्यूज़ ने प्रमुखता से दिखया ही नहीं बल्कि यह बताया कि यह पीएम मोदी के घोषणा के विरुद्ध है । जब  जिलाधिकारी महोदय सोशल डिस्टेंसिंग के आधार पर अपने जनपदों में प्रशिक्षण को करा सकते हैं ,तो फिर इसी तरह से अन्य विभागों में काम क्यों नहीं लिया जा सकता है। तो प्रदेश के कई विभागों में कार्यमुक्त करने की क्या जरुरत थी। श्रमिक मंत्र कोरोना के लिए दिए जा रहे प्रशिक्षण के विरोध में नहीं बल्कि प्रशिक्षण दिए जाने के पक्षधर है। लेकिन प्रशिक्षण देने के तरीके के विरुद्ध आवाज बुलंद की है। कारण ट्रैनिंग लेने व देने के लिए हज़ारों लोगों की परिवारों की जिंदगी को जोखिम में डालने जैसा है। जो प्रशिक्षण लेने वाले हज़ारों लोग अपने सर पर कफ़न बांधकर प्रशिक्षण लेने व् देने के लिए मजबूर व वेबश हैं। कारण इस बात की क्या गारंटी है। कि हज़ारो संख्या में अलग अलग प्रशिक्षण केन्द्रो पर पहुँचने वाले संक्रमित नहीं हो सकते है। जबकि यही ट्रेनिंग जनपद हरिद्वार में रह रहे कार्मिकों को ऑनलाइन,वट्सप व वीडियो कांफ्रेंस के जरिए भी आसानी से दिए  जा सकते थे । और इससे हज़ारों लोगो की जिंदगी भी खतरे में नहीं होती। और लोग कोवीड 19 से बचने के तरीके भी घर बैठे ही समझ जाते। वही इस संवेदनशील मुद्दे पर श्रमिक मंत्र ने शिक्षा मंत्री अरविन्द पण्डे ,शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक व से भी बात की। साथ ही हरिदवार जनपद के आपदा प्रभारी मंत्री सतपाल महाराज को भी इस प्रकरण की  जानकारी देकर उन्हें भी अवगत कराया। जिसपर हरिदवार प्रभारी मंत्री सतपाल महाराज ने श्रमिक मंत्र को आश्वाशन दिया और कहा कि आपकी सुझाव सरहनीय है। पीएम के दिशा निर्देशों का सही पालन किया जाएगा यह मैं विश्वाश दिलाता हूँ । 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *