देहरादून के इन इलाकों में बाढ़ का खतरा

Spread the love

पिछले कुछ दिनों में नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ा है। आने वाले कुछ दिन अगर बारिश ऐसे ही जारी रही तो दून में तबाही मचना तय है। नदियों का पानी किनारों से आबादी की तरफ आ रहा है, जिससे लोग डरे हुए हैं। चलिए अब आपको उन इलाकों के बारे में बताते हैं, जिन पर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। रिस्पना नदी के किनारे बसे प्रेसिडेंशियल बॉडीगार्ड कॉलोनी, गब्बर बस्ती, बारीघाट, आर्यनगर, राजीव नगर, दीपनगर और पंचपुरी पर बाढ़ का खतरा है। बिंदाल नदी के किनारे बसे गोविंदगढ़, कांवली रोड, गांधी ग्राम, सत्तोघाटी, आजाद कॉलोनी और संजय कॉलोनी जैसे इलाके भी खतरे की जद में हैं। नालापानी के ईश्वर विहार, शांति विहार, भगत सिंह कॉलोनी पर बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। सिंचाई विभाग ने इन नदियों के किनारे बसे लोगों से सुरक्षित स्थानों पर जाने की अपील की है। पहाड़ में लगातार हो रही बारिश से नदियां उफान पर हैं। पहाड़ी इलाकों पर तो खतरा मंडरा ही रहा है, पर सुरक्षित मैदानी क्षेत्र भी नहीं हैं। बारिश का कहर इसी तरह जारी रहा तो देहरादून के 30 से ज्यादा इलाकों को सैलाब ले डूबेगा। सिंचाई विभाग ने राजधानी के 30 से ज्यादा इलाकों में बाढ़ के खतरे की आशंका जताई है। अमर उजाला की खबर के मुताबिक सिंचाई विभाग के एक अभियंता ने इस बारे में बड़ी बातें बताई हैं। उन्होंने कहा कि बीते कुछ दिनों में हुई बरसात के कारण नदियों का जलस्तर बढ़ा है, जिसे देखते हुए आदेश जारी किए गए हैं।राज्य में मानसून दस्तक दे चुका है। लगातार बारिश हो रही है, जिससे नदियों का जलस्तर बढ़ा है। रिस्पना, बिंदाल, दुल्हनी और नालापानी जैसी नदियां उफान पर हैं। सहायक नदियों का जलस्तर भी तेजी से बढ़ रहा है। अगर बारिश यूं ही जारी रही तो इन नदियों के किनारे रहने वाले हजारों लोगों की जिंदगी खतरे में पड़ जाएगी। बता दें कि नालापानी, दुल्हनी, रिस्पना और बिंदाल नदी के किनारे हजारों की आबादी बसी है। ये लोग इस वक्त बाढ़ के खतरे की जद में हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *