तीनों को नहीं मिली जमानत। 

Spread the love

26 अगस्त को पुलिस ने आईटीबीपी के तीन कर्मचारियों के खिलाफ हत्या और हत्या के बाद शव को छुपाने का केस दर्ज कर लिया था। आईटीबीपी के हेड कांस्टेबल संदीप यादव, कांस्टेबल सुरेंद्र कुमार और कांस्टेबल चंद्रशेखर पर सूरज की हत्या का आरोप है। संदीप यादव राजस्थान का रहने वाला है, जबकि सुरेंद्र कुमार का परिवार हरियाणा में रहता है। तीसरा आरोपी चंद्रशेखर बुलंदशहर का रहने वाला है। नैनीताल कोर्ट ने आरोपी आईटीबीपी कांस्टेबलों की जमानत अर्जी खारिज कर दी है। आईटीबीपी कांस्टेबलों पर नानकमत्ता के रहने वाले सूरज कुमार की हत्या का आरोप है। 24 साल का सूरज आईटीबीपी की भर्ती रैली में हिस्सा लेने गया था, लेकिन वापस नहीं लौटा। बाद में उसकी लाश मिली। पूरा मामला भी बताते हैं। 24 साल का सूरज नानकमत्ता के वार्ड नंबर सात में रहता था। बीती 15 अगस्त को वो आईटीबीपी की भर्ती रैली में हिस्सा लेने के लिए हल्दूचौड़ आया था। हल्दूचौड़ में आईटीबीपी 34वीं वाहिनी की भर्ती चल रही थी। 16 अगस्त को सूरज ने दौड़ में हिस्सा लिया और वो सफल भी हो गया था,पर दौड़ के बाद सूरज को किसी ने नहीं देखा। परिजन उसे ढूंढते रहे। 18 अगस्त को सूरज की लाश आईटीबीपी कैंप के बाहर स्थित झाड़ियों में मिली।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *