अपना इंशोरेंस जरूर करा लें,वरना 

Spread the love

वॉल्वो में बैठने से पहले अपना इंशोरेंस जरूर करा लें,वरना जी हां यह बात सौ फीसदी सच है,यदि आप कम्फ़र्टेबल सवारी समझकर लक्जरी वॉल्वो में सफर करते हैं तो बस में बैठने से पहले आप यह समझकर बैठे। कि जिसमें आप कम्फ़र्टेबल सवारी समझकर सफर करना चाहते है,वो आपके और आपके परिवार के लिए जानलेवा व घातक सवारी भी सिद्ध हो सकता है। जी हां यह मेरा कहना नहीं बल्कि यह आँखों देखी सवारियों का जो वोल्वो में सफर कर रहे थे। यह बिलकुल सच है जिसे देखकर आप भी यकीन कर सकते है। ऐसा ही आज घटना घटित हुयी,दिल्ली से देहरादून आने वाली कम्फ़र्टेबल व लक्जरी वॉल्वो में। जैसे ही वोल्वो दिल्ली से चलकर मेरठ के बाईपास पहुंची कि अचानक बस ड्राईवर तरफ का अगला टायर ब्लास्ट हो गया। गनीमत यह रही कि इसमें बैठे सवारी का कोई जानमाल का नुक्सान नहीं हुआ और वोल्वो चालक की सुझ बुझ से बस में सवारियों को खरोंच तक नहीं लगी। लेकिन इस दुर्घटना ने वोल्वो में सफर करने वाले वाले सवारी को यह संकेत तो जरूर दे दिया आप वोल्वो में बैठने से पहले बस की चारों टायर की जाँच पड़ताल जरूर कर लें। आप ये मत सोचें कि टायर की देखभाल की जिम्मेमदारी बस चालक की है न कि आपकी। परंतु खुद को सुरक्षित सफर करने की जिम्मेदारी आपकी खुद की है वरना आप कभी भी दुर्घटना का शिकार हो सकते है। इसमें बेचारे टायर की गलती नहीं है वो तो पिछले 20 सालों से कह कहकर थक चूका और अपने दुर्दशा का बयां करता रहा। परन्तु बेचारे टायर की वर्कशॉप वालों ने एक नहीं सुनी और टायर कहता रहा कि मेरे ऊपर फटे पुराने  टायर  मत चढ़ाओ वरना दुर्घटना हो सकती है । लेकिन बेशर्मी की भी कोई हद होती है वर्कशॉप वालों ने मेरी एक नहीं सुनी आखिरकार में खुद को ब्लास्ट करने में ही भलाई समझा। अब लक्जरी बस वोल्वो में सफर करने वालों को सोचना है कि उन्हें खुद और अपने परिवार की भलाई किस में है,उत्तराखंड परिवहन निगम की खटारा बस में या फिर ठेके पर संचालित होने वाली कम्फ़र्टेबल लक्जरी वॉल्वो में। वरना आप   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *